द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय | Draupadi Murmu Biography in Hindi - Techno Preet

Share:

Draupadi Murmu Biography in Hindi : यशवंत सिन्हा को हराकर देश की दूसरी महिला राष्ट्रपति बनी द्रौपदी मुर्मू कौन है? क्या आप भी ये Google पर सर्च कर रहे हैं। द्रौपदी मुर्मू एनडीए की उम्मीदवार है और मुर्मू देश की पहली आदिवासी महिला हैं, जो राष्ट्रपति के सर्वोच्च पद पर आसीन होंगी। आज इस पोस्ट में आप जानेंगे द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय (Draupadi Murmu Biography in Hindi)


आदिवासी समाज से आने वाली द्रौपदी मुर्मू देश की 15वीं राष्ट्रपति हैं। हर कोई आज Internet पर Draupadi Murmu के बारे में सर्च कर रहा है। द्रौपदी मुर्मू के राष्ट्रपति बनने पर आदिवासी समाज में और ओडिशा में खुशी की लहर दौड़ चुकी है। चलिए जानते हैं द्रौपदी मुर्मू की जीवनी (Draupadi Murmu WIkipedia in Hindi)


द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय (जीवनी, जाति, उम्र, पति, सैलरी, बेटी, बेटा, आरएसएस, शिक्षा, राष्ट्रपति, जन्म तारीख, परिवार, पेशा, धर्म, पार्टी, करियर, राजनीति, अवार्ड्स, इंटरव्यू) Draupadi Murmu Biography in Hindi (caste, age, husband, income, daughter, rss, president, sons, qualification, date of birth, family, profession, politician party, religion, education, career, politics career, awards, interview, speech)


द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय | Draupadi Murmu Biography in Hindi


पूरा नाम: द्रौपदी मुर्मू

पिताजी का नाम: बिरांची नारायण टुडू

पेशा: राजनीतिज्ञ

पार्टी: भारतीय जनता पार्टी

पति: श्याम चरण मुर्मू

जन्म तिथि: 20 जून 1958

आयु: 64 वर्ष

जन्म स्थान: मयूरभंज, उड़ीसा, भारत

वजन: 74 किलो

लंबाई: 5 फिट 4 इंच

जाति: अनुसूचित जनजाति

धर्म: हिंदू

बेटी: इतिश्री मुर्मू

संपत्ति: 10 लाख

भारतीय जनता पार्टी से जुड़ी:  1997


द्रौपदी मुर्मू का निजी जीवन


एनडीए द्वारा द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) को भारत के राष्ट्रपति के उम्मीदवार के तौर पर प्रस्तुत किया गया है। द्रौपदी मुर्मू का जन्म साल 1958 में एक आदिवासी परिवार में भारत देश के उड़ीसा राज्य के मयूरभंज इलाके में 20 जून को हुआ था।


Draupadi Murmu Biography in Hindi

द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) देश की पहली राष्टपति बनने वाली पहली आदिवासी समुदाय की महिला है। इसीलिए वह सोशल मीडिया पर चर्चाओं का विषय बनी हुई हैं। हर कोई उनके बारे में जानना चाहता है। 


द्रोपदी मुर्मू की शिक्षा


द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) के माता-पिता द्वारा उनका एडमिशन इलाके के ही एक विद्यालय में करवाया, जहां पर इन्होंने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई को पूरा किया। इसके पश्चात ग्रेजुएशन की पढ़ाई करने के लिए यह भुवनेश्वर शहर चली गई। भुवनेश्वर शहर में जाने के पश्चात इन्होंने रामा देवी महिला कॉलेज में एडमिशन प्राप्त किया और रामा देवी महिला कॉलेज से ही इन्होंने ग्रेजुएशन की पढ़ाई कंप्लीट की।


ग्रेजुएशन की एजुकेशन पूरी करने के पश्चात ओडिशा गवर्नमेंट में बिजली डिपार्टमेंट में जूनियर असिस्टेंट के तौर पर इन्हें नौकरी प्राप्त हुई। इन्होंने यह नौकरी साल 1979 से लेकर साल 1983 तक पूरी की। इसके बाद इन्होंने साल 1994 में रायरंगपुर में मौजूद अरबिंदो इंटीग्रल एजुकेशन सेंटर में टीचर के तौर पर काम करना चालू किया और यह काम इन्होने 1997 तक किया।


द्रौपदी मुर्मू का परिवार


द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) के पिताजी का नाम बिरांची नारायण टुडू है और द्रौपदी मुरमू संताल आदिवासी फैमिली से संबंध रखती हैं। झारखंड राज्य के बनने के पश्चात 5 साल का कार्यकाल पूरा करने वाली द्रोपदी मुर्मू पहली महिला राज्यपाल है। इनके पति का नाम श्याम चरण मुर्मू है।


द्रौपदी मुर्मू का राजनीतिक करियर


साल 1997 का वह समय था, जब ओडिशा के रायरंगपुर जिले से पहली बार इन्हें जिला पार्षद चुना गया, साथ ही यह रायरंगपुर की उपाध्यक्ष भी बनी। इसके अलावा इन्हें साल 2002 से लेकर के साल 2009 तक मयूरभंज जिला भाजपा का अध्यक्ष बनने का मौका भी मिला। साल 2004 में यह रायरंगपुर विधानसभा से विधायक बनने में भी कामयाब हुई और आगे बढ़ते बढ़ते साल 2015 में इन्हें झारखंड जैसे आदिवासी बहुल राज्य के राज्यपाल के पद को संभालने का भी मौका मिला।


उड़ीसा गवर्नमेंट में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार के तौर पर द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) को साल 2000 से लेकर के साल 2004 तक ट्रांसपोर्ट और वाणिज्य डिपार्टमेंट संभालने का मौका मिला। इन्होंने साल 2002 से लेकर के साल 2004 तक उड़ीसा गवर्नमेंट के राज्य मंत्री के तौर पर पशुपालन और मत्स्य पालन डिपार्टमेंट को भी संभाला।


साल 2002 से लेकर के साल 2009 तक द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) भारतीय जनता पार्टी के अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के मेंबर भी रही। इसके बाद भारतीय जनता पार्टी के एसटी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष के पद को इन्होंने साल 2006 से लेकर के साल 2009 तक संभाला।


एसटी मोर्चा के साथ ही साथ भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के मेंबर के पद पर यह साल 2013 से लेकर के साल 2015 तक रही। इसके बाद झारखंड के राज्यपाल के पद को उन्होंने साल 2015 में प्राप्त किया और यह इस पद पर साल 2021 तक विराजमान रही। 


पार्षद से राष्टपति बनने तक का सफर


1997 में पार्षद बनने के बाद 2022 में द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) देश की राष्टपति बनी हैं। द्रौपदी मुर्मू झारखंड की राज्यपाल रह चुकी है। इसके अलावा यह एक आदिवासी महिला है। उन्हें एनडीए द्वारा भारत के राष्ट्रपति के उम्मीदवार के तौर पर घोषित किया गया था। जिसके बाद से वह सोशल मीडिया पर चर्चाओं में आ गईं।


सत्ताधारी एनडीए की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) को तीसरे चरण की मतगणना में ही 5,77,777 मूल्य के मत मिल गए। वहीं, विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को सिर्फ 2,61,062 मूल्य के वोट प्राप्त हुए हैं। वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा है। 25 जुलाई को नए राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण समारोह होगा। जिसमें द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) राष्टपति के तौर पर शपथ लेंगी।


पति और दो बेटों को खो चुकी द्रौपदी मुर्मू 


द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) की शादी श्याम चरण मुर्मू के साथ हुई थी। जिसके बाद उनके घर दो बेटों और एक बेटी ने जन्म लिया। हालांकि इनका व्यक्तिगत जीवन ज्यादा सुखमय नहीं था, क्योंकि इनके पति और इनके दोनों बेटे अब इस दुनिया में नहीं है। इनकी बेटी ही अब जिंदा है, जिसका नाम इतिश्री है, जिसकी शादी द्रौपदी मुर्मू ने गणेश हेम्ब्रम के साथ की है।


द्रोपदी मुर्मू को प्राप्त पुरस्कार


द्रौपदी मुर्मू को नीलकंठ पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ विधायक के लिए साल 2007 में प्राप्त हुआ था। यह पुरस्कार इन्हें ओडिशा विधानसभा के द्वारा किया गया था।


ये भी पढ़े:

- कौन है विवादित बयान देने वाली नूपुर शर्मा

- सीएम भगवंत मान की पत्नी डा. गुरप्रीत कौर का जीवन परिचय

- मिस इंडिया सिनी शैट्‌टी का जीवन परिचय

- एजुकेशन लोन कैसे लें

- इंस्टाग्राम पर फॉलोवर्स कैसे बढ़ाएं 2022 में

- इंश्योरेंस क्या हैं और कैसे करवा सकते हैं

- बिजली विभाग में जेई कैसे बने

- सरकारी टीचर कैसे बने


FAQ:


प्रश्न: द्रौपदी मुर्मू कौन है?

उत्तर: द्रौपदी मुर्मू देश की दूसरी महिला, पहली आदिवासी महिला और 15वीं राष्ट्रपति हैं। 


प्रश्न: झारखंड की पहली महिला राज्यपाल कौन है?

उत्तर: द्रौपदी मुर्मू


प्रश्न: द्रौपदी मुर्मू के पति का नाम क्या है?

उत्तर: श्याम चरण मुर्मू


प्रश्न: द्रौपदी मुर्मू किस समुदाय से ताल्लुक रखती हैं?

उत्तर: आदिवासी समुदाय

No comments