Raksha Bandhan 2022 Date: रक्षा बंधन कब है? शुभ मुहूर्त क्या है और राखी बांधते क्या गलती नहीं करनी चाहिए

Share:

Raksha Bandhan 2022 Kab Hai : रक्षा बंधन का पर्व हर वर्ष सावन मास की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता है। इस दिन बहनें भाई की कलाई पर राखी बांधती है और उसकी लंबी उम्र की कामना करती है। इसके बदले में भाई अपनी बहनों को उसकी रक्षा का वचन देते हैं। साल 2022 में रक्षाबंधन की डेट को लेकर लोगों में काफी कंफ्यूजन है। लोग Google पर सर्च कर रहे हैं कि रक्षा बंधन 2022 कब है? (raksha bandhan 2022 date)। आपको बता दें कि भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक रक्षा बंधन का त्योहार इस साल 11 अगस्त वीरवार को मनाया जाएगा। 


रक्षा बंधन का त्योहार इसलिए भी खास होने वाला है क्योंकि इस बार रक्षा बंधन का त्योहार रवि योग में मनाया जाएगा। मान्यताओं के अनुसार द्रोपदी ने भगवान श्री कृष्ण को रक्षा सूत्र बांधा था। इसी वजह से भगवान श्री कृष्ण ने भरी सभा में उन्हें निर्वस्त्र होने से बचाया था। इस बार पूर्णिमा 11 और 12 दोनों दिन पड़ रहा है, इस वजह से रक्षाबंधन कब मनाया जाएगा, इसको लेकर लोग काफी कंफ्यूज हैं।


Raksha Bandhan 2022 Kab Hai

रक्षा बंधन 2022 (Raksha Bandhan 2022 Date) को लेकर लोग इंटरनेट पर बहुत कुछ सर्च कर रहे हैं, जिसमें 2022 में रक्षा बंधन कब है? रक्षा बंधन अगस्त में कौन सी तारीख को है? राखी का त्यौहार कब से शुरू हुआ? रक्षा बंधन का त्यौहार क्यों मनाया जाता है? Raksha Bandhan 2022 Muhurat Time, Raksha Bandhan 2022 Date and Time, Raksha Bandhan 2022 Date Tithi, Raksha Bandhan 2022 Date Calendar, Raksha Bandhan 2022 Date Muhurat.


रक्षाबंधन 2022 की सही तारीख (Raksha Bandhan 2022 Date and Time)


सावन महीने के शुक्‍ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि 11 अगस्त की सुबह 10:38 बजे से शुरू होकर 12 अगस्त को 07:05 बजे तक रहेगी। ऐसे में उदया तिथि 12 अगस्‍त को है और इस लिहाज से 12 अगस्‍त को रक्षाबंधन मनाया जाना चाहिए। लेकिन चूंकि 11 अगस्‍त को पूरे दिन पूर्णिमा तिथि रहेगी, इसलिए ज्‍योतिषाचार्यों के मुताबिक 11 अगस्‍त को रक्षाबंधन मनाना उत्‍तम रहेगा। इस लिए साल 2022 में रक्षाबंधन 11 अगस्‍त 2022, गुरुवार को मनाई जाएगी।


रक्षा बंधन 2022 का शुभ मुहूर्त (Raksha Bandhan 2022 Muhurat Time)


11 अगस्‍त 2022 को रक्षाबंधन मनाने के लिए शुभ मुहूर्त सुबह से ही शुरू हो जाएंगे। इस दिन सुबह 10:38 बजे से लेकर रात 9 बजे तक राखी बांधने के लिए शुभ मुहूर्त रहेगा। इस दौरान दोपहर 12:06 बजे से दोपहर 12:57 बजे तक अभिजीत मुहूर्त रहेगा। वहीं अमृत काल शाम 06:55 बजे से रात 08:20 बजे तक रहेगा।


भद्रा काल में गलती से भी न बांधें राखी 


बहनें ध्‍यान रखें कि भद्रा काल के दौरान अपने भाइयों को राखी न बांधें। भद्रा काल में राखी बांधना अशुभ होता है क्‍योंकि लंकापति रावण की बहन ने उसे भद्रा काल में ही राखी बांधी थी और रावण युद्ध में मारा गया था। इसलिए भद्रा काल में राखी नहीं बांधनी चाहिए। साल 2022 में 11 अगस्‍त, रक्षाबंधन के दिन भद्राकाल शाम 05:17 बजे से रात 08:51 मिनट तक रहेगा। इसमें भद्रा पूंछ 11 अगस्त की शाम 05:17 बजे से शाम 06:18 बजे तक रहेगा। वहीं रक्षा बंधन भद्रा मुख शाम 06:18 बजे से लेकर रात 8 बजे तक रहेगा।


रक्षा बंधन की पूजन थाली में रखें ये सामग्री


- भाई के सिर पर रखने के लिए एक रुमाल

- तिलक के लिए कुमकुम और अक्षत

- सूखा नारियल

- राखी

- गंगा जल से भरा हुआ एक कलश

- भाई की आरती करने के लिए दीपक

- कोई मनपसंद मिठाई


Raksha Bandhan 2022 Kab Hai

हिंदू धर्म मान्यताओं के अनुसार आमतौर पर इन सामग्रियों का पूजन थाली में होना जरूरी है। इसके अलावा आप अपनी इच्छा अनुसार कोई तोहफा भी भाई के लिए रख सकती हैं। माना जाता है कि इन सभी सामग्रियों को रक्षाबंधन की थाली में शामिल करने से भाई के जीवन में सुख-समृद्धि बनी रहती है और उसकी आयु में वृद्धि होती है।


राखी बांधने की विधि


सबसे पहले भाई अपने सिर पर कोई रुमाल रखे। इसके बाद बहनें अपने भाई के माथे पर कुमकुम से तिलक लगाकर साबुत अक्षत लगाएं। ध्यान रहे कि पूजन की थाली में अक्षत के दाने टूटे नहीं होने चाहिए। इसके बाद भाई के दाएं हाथ की कलाई में भावपूर्वक 3 गांठ लगा कर राखी बांधें। भाई भी अपने मन में अपनी बहन के प्रति सभी दायित्व निभाने और उसकी रक्षा का भाव रखे। राखी बांधने के बाद सात बार धूप-दीप से भाई की आरती उतारें और कोई मिठाई खिलाएं। फिर भाई अपनी बहन को शुभकामनाओं सहित कोई उपहार या धनराशि भेंट करें।


राखी बांधते समय क्यों लगाई जाती हैं उसमें तीन गांठें


धार्मिक मान्यता के अनुसार राखी बांधते समय उसमें तीन गांठ लगाना बहुत शुभ माना गया है। माना जाता है कि पहली गांठ भाई की लंबी उम्र के लिए, दूसरी गांठ स्वयं की दीर्घायु के लिए और तीसरे गांठ भाई-बहन के पवित्र रिश्ते की दीर्घायु के लिए बांधी जाती है। इसके अलावा ज्योतिष शास्त्र के अनुसार तीन गांठें लगाने का संबंध त्रिदेवों ब्रह्मा, विष्णु और महेश से भी माना गया है।


अंतिम बात


दोस्तों, अब आपकी कंफ्यूजन दूर हो गई है कि 2022 में राखी का त्योहार कब मनाया जाएगा? या रक्षा बंधन 2022 कब है? इस आर्टिकल को पढ़कर आपको इस संबंधी पूरी जानकारी मुहैया करवाई गई है। जिससे आपकी सारी कंफ्यूजन दूर हो जाएगी।


उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी बहुत पसंद आएगी। अगर आपको ये जानकारी पसंद आए तो इस आर्टिकल को सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें ताकि ओर लोगों की भी कंफ्यूजन दूर हो। इसलिए ये जानकारी पढ़कर सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें।


दोस्तों हम अगले आर्टिकल में रक्षा बंधन का इतिहास बता रहे हैं, जिसमें आपको बताया जाएगा कि रक्षा बंधन 2022 या राखी का त्यौहार क्यों मनाया जाता है। इसके अलावा ऐसे ही अन्य आर्टिकल आप हमारे ब्लॉग पर पढ़ सकते हैं। धन्यवाद

No comments