Black Fungus kya hai in Hindi - नमस्कार दोस्तों, 'Techno Preet' में आपका स्वागत है। आज हम बात करेंगे Black Fungus Kya Hai, ब्लैक फंगस कैसे होता है? Black Fungus ke Lakshan Kya Hai, ब्लैक फंगस से बचाव कैसे करें? और ब्लैक फंगस के बारे में वो सभी सवाल, जो आपके मन में उठ रहे हैं। 


All About Black Fungus : कोरोना मरीजों में ब्लैक फंगस (Black Fungus) के मामले बढ़ने के कारण भारत के स्वास्थ्य विभाग द्वारा कई राज्यों में महामारी घोषित कर दिया गया है। लेकिन बहुत सारे लोग ब्लैक फंगस क्या है? और कैसे होता है? के बारे में नहीं जानते हैं। आज हम आपको इसी के बारे में बताने वाले हैं।

Black Fungus kya hai in Hindi

विशेषज्ञों के अनुसार ब्लैक फंगस (Black Fungus) वातावरण में मौजूद है। खासकर मिट्‌टी में इसकी मौजूदगी ज्यादा होती है। यह स्वस्थ और मजबूत इम्यूनिटी वाले लोगों पर अटैक नहीं कर पाता है, लेकिन जिनकी इम्यूनिटी पावर कमजोर होती हैं, उन्हें यह अपना शिकार बना लेता है। 


ब्लैक फंगस क्या होता है? 


बता दें कि ब्लैक फंगस (Black Fungus) को कई राज्यों ने महामारी घोषित कर दिया है। असल में इसके पीछे की वजह है फंगस संक्रमण कमजोर इम्युनिटी वाले लोगों को प्रभावित करती है। अब कोरोना संक्रमण की वजह से कई लोगों में कमजोरी आ चुकी है। जिसकी वजह से यह इंफेक्शन भी शरीर में बढ़ गया है। इससे पहले यह बीमारी कीमोथेरेपी और नियंत्रित शुगर, किसी भी तरह के ट्रांसप्लांट से गुजरने वाले लोगों को होती थी।

Black Fungus kya hai in Hindi

यह इतना खतरनाक संक्रमण है कि इसके शिकार करीब आधे लोगों की जान चली जाती है। कुछ ऐसे मामले भी सामने आए हैं, जिनमें मरीजों को बचाने के लिए उनकी आंखें तक निकालनी पड़ी हैं। ब्लैक फंगस के सबसे अधिक मामले डायबिटिक लोगों में आ रहे हैं। ऐसे में इन्हें सबसे अधिक सावधानी बरतने की जरूरत है और नियमित तौर पर अपना शुगर लेवल चेक करते रहना चाहिए।


ब्लैक फंगस से किन्हें हैं ज्यादा खतरा


● डायबिटिज के मरीज में जिन्हें स्टेरॉयड दिया जा रहा है

● कैंसर का इलाज करवा रहे मरीज

● अधिक मात्रा में स्टेरॉयड लेने वाले मरीज

● ऐसे कोरोना संक्रमित जो ऑक्सीजन मास्क या वेंटिलेटर के जरिए ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं

● ऐसे मरीज जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहद कम है

● ऐसे मरीज जिनके किसी ऑर्गन का ट्रांसप्लांट हुआ हो


ब्लैक फंगस के लक्षण क्या है?


ब्लैक फंगस (Black Fungus) आमतौर पर साइनस, मस्तिष्क और फेफड़ों को प्रभावित करता है। हालांकि ओरल केविटी या मस्तिष्क के ब्लैक फंगस से सबसे अधिक प्रभावित होने की आशंका रहती है, लेकिन कई मामलों में यह शरीर के अन्य हिस्सों को भी प्रभावित कर सकता है जैसे कि गैस्ट्रोइंटेस्टिनल ट्रैक्ट, स्किन और शरीर के अन्य ऑर्गन सिस्टम्स। नीचे लिखे लक्षण दिखने पर तुरंत जांच करवानी चाहिए.....


◆ नाक बंद होना या नाक से खून या काला-सा कुछ निकलना

◆ गाल की हड्डियों में दर्द होना, एक तरफ चेहरे में दर्द, सुन्न या सूजन होना

◆ सिरदर्द होना

◆ पलके सूचने लगे

◆ नाक की ऊपरी सतह का काला होना

◆ दांत ढीले होना

◆ आंखों में दर्द होना, धुंधला दिखना या दोहरा दिखना, आंखों के आस-पास सूजन होना

◆ थ्रांबोसिस, नेक्रोटिक घाव

◆ सीने में दर्द या सांस लेने में दिक्कत होना


ब्लैक फंगस का फेफड़े पर आक्रमण होने पर दिखेंगे ये लक्षण


◆ बुखार

◆ सांस लेने में दिक्कत

◆ कफ

◆ खंखार में खून आना

◆ सीने में दर्द

◆ धुंधला दिखाई पड़े


ब्लैक फंगस से बचाव कैसे करें?


● डायबिटिक मरीजों में ब्लैक फंगस का शुरुआती दौर में ही पता लगना बहुत जरूरी है। डायबिटीज वाले लोगों को ज्यादा स्ट्रॉन्ग दवाएं देने से उनकी किडनी या अन्य अंगों पर बुरा असर पड़ने का भी खतरा रहता है।

● जिन कोरोना संक्रमितो को ब्लैक फंगस हो रहा है, उन्हें ट्रीटमेंट के समय और रिकवरी के बाद स्टेरॉयड की डोज बेहद सावधानी से दी जानी चाहिए।

● ब्लैक फंगस का इलाज तीन चरणों में किया जाना चाहिए, पहले चरण में सिर्फ संक्रमण की वजह का पता लगाकर उसे दूर करना चाहिए और शुगर लेवल व एसिडोसिस चेक करना चाहिए। इसके बाद सर्जरी के जरिए एग्रेसिव तरीके से डेड टिश्यू हटाए जाने चाहिए, ताकि फंगस को अधिक फैलने से रोका जा सके। इसके बाद उचित दवाइयां दी जानी चाहिए।

● ब्लैक फंगस नाक या मुंह के जरिए शरीर में प्रवेश करता है। इसलिए मास्क लगाकर रखना चाहिए।

● दूसरे चरण में यह आंख को प्रभावित करता है और तीसरे चरण में यह दिमाग पर अटैक करता है। इसलिए आंखों का ध्यान रखना चाहिए।

● चार से छह हफ्ते तक दवाइयां लेनी पड़ती हैं। गंभीर मामलों में तीन-तीन महीने तक इलाज चलता है।


अंतिम बात


दोस्तों, ब्लैक फंगस (Black Fungus) के संक्रमण से बचने के लिए हमें अपना खास ध्यान रखना चाहिए और हमारे विशेषज्ञों द्वारा बताई गई टिप्स को ध्यान में रखते हुए उनका अनुसरण करना चाहिए। अगर किसी में कोई भी ब्लैक फंगस (Black Fungus) के लक्षण दिखते हैं तो उसे इसे हल्के में नहीं लेना चाहिए और तुरंत अपनी जांच करवाकर इलाज शुरू करवाना चाहिए। 


इसलिए हमने आपको इस आर्टिकल में ब्लैक फंगस क्या है? (Black Fungus Kaise hota hai) और ब्लैक फंगस के लक्षण क्या हैं (Black Fungus Treatment in Hindi ) के बारे में जानकारी दी है। जो सभी के लिए हैल्पफुल साबित होगी। 


अगर आपके भी किसी सगे संबंधी में ऐसे लक्षण दिखते हैं या फिर इस खतरनाक संक्रमण से उन्हें डर है तो आप उनके साथ इस जानकारी को सांझा कर सकते हैं ताकि उन्हें ब्लैक फंगस (Black Fungus) के बारे में पूरी जानकारी मिल सके। उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आएगी। अगर आपको ये जानकारी हैल्पफुल लगे तो इस सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें ताकि ओर लोगों को भी इसके बारे में पता चल सके। 


आप हमारे साथ जुड़ने के लिए हमें Youtube, Facebook, Twitter और Instagram पर Follow कर सकते हैं क्योंकि हम हर रोज ऐसी भी रोचक और हैल्पफुल जानकारी लेकर आने वाले हैं। अगर आपके मन में कोई सवाल है तो आप हमें कॉमेंट करके पूछ सकते हैं।

Post a Comment

Previous Post Next Post